INDvsAUS: ऑस्ट्रेलियन मीडिया का माइंड गेम, भारतीय क्रिकेटरों को बताया ‘डरपोक’, बताए ये 3 डर

4

एडिलेड: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज छह दिसंबर से शुरू हो रही है. एडिलेड में खेले जाने इस टेस्ट मैच से पहले ऑस्ट्रेलियन मीडिया ने भारतीय टीम और क्रिकेटरों के खिलाफ माइंड गेम शुरू कर दिया है. ऑस्ट्रेलिया के एक अखबार ने टीम इंडिया के एडिलेड पहुंचने के अगले दिन भारतीय क्रिकेटरों को डरपोक करार दिया.

ऑस्ट्रेलिया के इस टैबलॉयड ने टीम इंडिया के एडिलेड पहुंचने पर THE SCAREDY BATS शीर्षक के साथ एक खबर छापी. खबर के साथ भारतीय क्रिकेटरों भुवनेश्वर कुमार और रवींद्र जडेजा की बड़ी सी तस्वीर प्रकाशित की गई है. अखबार ने अपनी रिपोर्ट में अलग-अलग मैदानों पर भारतीय क्रिकेटरों की अलग-अलग डर की वजह भी बताई गई है. हालांकि, अखबार की यह रिपोर्ट पाठकों को पसंद नहीं आई. सिर्फ भारत ही नहीं, ऑस्ट्रेलिया के प्रशंसकों ने भी इसे बचकानी रिपोर्ट और अशिष्ट परंपरा करार दिया है.

बताए टीम इंडिया के ये 3 डर
ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार रिचर्ड हाइंड्स ने इस आर्टिकल का फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किया. इसमें दावा किया गया कि चार मैचों की सीरीज के आयोजन स्थान पर टीम इंडिया को परेशानियों का सामना करना पड़ा है. रिपोर्ट के मुताबिक,

1. भारत को ब्रिस्बेन में ‘उछाल‘.

2. पर्थ में ‘बिना किसी कारण’ : वाका के मैदान का वि‍केट सबसे तेज माना जाता है. ऐसे में टीम इंडि‍या के ख्‍‍िालाड़ी ब‍िना वजह डर जाते हैं.

3. और एडिलेड में ‘अंधेरे’ से डर है. एडिलेड वाली जानकारी भारतीय टीम पर कटाक्ष के तौर पर है, क्योंकि टीम इंडिया ने यहां डे- नाइट टेस्ट खेलने से इंकार किया था.

विराट कोहली को मत उकसाओ…ब्रायडन कावर्डेल ने रिचर्ड हाइंड्स का समर्थन करते हुए लिखा, ‘पिछली बार कोहली ने चार शतक बनाए थे. विजये ने 60 और रहाणे ने 57 की औसत से रन बनाए थे. राहुल ने भी श्तक जमाया था. मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेटर इस बार भी अच्छा प्रदर्शन करेंगे.’ वहीं, माइकल नामक एक शख्स ने तो ऑस्ट्रेलिया को ही चेतावनी दे डाली.उन्होंने लिखा, ‘पहला नियम यह है कि कोहली को मत उकसाओ. दूसरा नियम है कि पहले नियम को ध्यान में रखो.’ विराट कोहली ने 73 टेस्ट में 54.57 की औसत से 6331 बनाए हैं जिसमें 24 शतक शामिल हैं.

टीम इंडिया के पक्ष में आए ऑस्ट्रेलियाई प्रशंसक –दरअसल, ऑस्ट्रेलियाई मीडिया की यह पुरानी आदत है कि वह मेहमान टीम को कमजोर बताकर उसका आत्मविश्वास कम करने की कोशिश करता है. उसने अपना यही पुराना हथकंडा अपनाया है, ताकि भारतीय टीम का ध्यान भटकाया जा सके. हालांकि, इसमें भी अच्छी बात यह है कि ऑस्ट्रेलिया के ही कई क्रिकेट प्रशंसक मीडिया की इस रिपोर्ट को बचकाना बताकर खारिज कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here